प्रखर राष्ट्रवादी डॉ मुखर्जी भारतीय राजनीति के आइकॉन : डॉ अमरेन्द्र
Home , अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह , अररिया , अरवल , आगरा , आंध्र प्रदेश , उतर प्रदेश , औरंगाबाद , कटिहार , कर्णाटक , कानपूर , किशनगंज , कृषि , केरल , कैमूर , कोडरमा , खगड़िया , गया , गोपालगंज , गोरखपुर , जमशेदपुर , जमुई , जहानाबाद , झारखंड , झारखण्ड , त्रिपुरा , दमन और दीव , दरभंगा , देश , धार्मिक , नई दिल्ली , नवादा , नागालैण्ड , नालंदा , पटना , पटना , पटियाला कोर्ट , पश्चिमी चम्पारण , पाकिस्तान , पूर्णिया , पूर्वी चम्पारण , पॉलिटिक्स , बक्सर , बाँका , बांग्लादेश , बिहार , बेगूसराय , बॉलीवुड , बोकारो , ब्राजील , भागलपुर , भोजपुर , भोजपुर , मणिपुर , मधुबनी , मधेपुरा , मनोरंजन , महाराष्ट्र , मुंगेर , मुजफ्फरपुर , मुम्बई , मेरठ , रांची , राँची , राजस्थान , राज्य , राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली , रेलवे , रोहतास , लखनऊ , लखीसराय , वराणसी , वायरल , विदेश , वीडियो , वैशाली , शिवहर , शेखपुरा , समस्तीपुर , सहरसा , सारन , सासाराम , साहिबगंज , सिटी , सिमडेगा , सीतामढ़ी , सीवान , सुपौल , स्पोर्ट्स , स्वास्थ्य , हरियाणा

प्रखर राष्ट्रवादी डॉ मुखर्जी भारतीय राजनीति के आइकॉन : डॉ अमरेन्द्र

प्रखर राष्ट्रवादी डॉ मुखर्जी भारतीय राजनीति के आइकॉन : डॉ अमरेन्द्र

6 जुलाई 2020, सवेरा टाइम्स, आरा
अखिल भारतीय जनसंघ के संस्थापक सदस्य, महान शिक्षाविद् , सिद्धांतवादी राजनीति के पक्षधर, भाजपा के पथ प्रदर्शक डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के 120 जयंती समारोह के अवसर पर आरा के स्थानीय महाराजा हाता अवस्थित द ब्रेव कैरियर इंस्टिट्यूट में पुष्पांजलि कार्यक्रम आयोजित की गई। पुष्पांजलि कार्यक्रम में डॉ मुखर्जी के 120 वीं जयंती समारोह के अवसर पर भाजयुमो भोजपुर के पूर्व जिलाध्यक्ष सह भाजपा के वरीय नेता डॉ अमरेन्द्र शक्रवार ने कहा कि भारतीय राजनीति में डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी सिद्धांतवादी राजनीति के पक्षधर थे। कम उम्र में उन्होंने शैक्षणिक जगत के अंदर कोलकाता विश्वविद्यालय के कुलपति जैसे पद को सुशोभित किया। उन्होंने भारतीय राजनीति में नेहरू मंत्रिमंडल के अंतर्गत कम उम्र के मंत्री भी बने लेकिन कांग्रेस पार्टी के गलत नीतियों के कारण विरोध करते हुए उन्होंने मंत्री पद को परित्याग किया।

भाजपा नेता डॉ अमरेन्द्र शक्रवार डॉ मुखर्जी के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि बहुआयामी प्रतिभा के धनी डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी सबसे कम उम्र में अनेकों उपलब्धियां हासिल की। कश्मीर के अंदर उन्होंने अनुच्छेद 370 तथा 35 A को समाप्त करने के लिए जन आंदोलन खड़ा किया। भारत जैसे देश के अंदर दो निशान, दो प्रधान और दो विधान के नीतियों को जन जन के बीच पहुंचा कर कांग्रेस पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार को बेनकाब किया। देश के एकता, अखंडता एवं संप्रभुता को कायम रखने के लिए लोगों को एकजुट किए।

भाजपा नेता डॉ शक्रवार ने कहा कि कश्मीर से परमिट राज समाप्त करने और उसे भारत का अभिन्न अंग बनाये रखने के लिये उन्होंने अपने प्राणों की आहुति तक दे दी। ऐसे महान राष्ट्र नायक को आज पूरा देश भावपूर्ण नमन कर रहा है। डॉ मुखर्जी के कृतित्व एवं व्यक्तित्व को देश की जनता कभी भुला नहीं सकती। राजनीति के आइकॉन के रूप में प्रखर राष्ट्रवादी डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी याद किए जाएंगे।

इस मौके पर भाजयुमो के पूर्व जिला अध्यक्ष डॉ अमरेन्द्र शक्रवार, जिला उपाध्यक्ष नवीन कुमार राय, शाहपुर नगर मंडल प्रभारी धीरज कुमार सिंह, भाजपा आईटी सेल के जिला संयोजक सुमित कुमार सिंह, फेसबुक जिला प्रमुख विपुल गोस्वामी, भाजपा के सूरज कुमार प्रजापति, युवा नेता हिमांशु प्रताप सिंह, प्रदीप कुमार, विष्णु केसरी, शशि रंजन, रविशंकर प्रसाद, अंगद कुमार, मनोज कुमार राय, मंटू पांडेय, प्रिंस सिन्हा, रवि सिंह समेत कई युवा नेताओं ने डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के तैलीय चित्र पर पुष्प अर्पण कर नमन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *